content='width=device-width, initial-scale=1' /> मन के भाव - हिंदी काव्य संकलन Mann ke Bhaav : Hindi Kavita: मेरे राम, मेरे राम

अक्तूबर 15, 2021

मेरे राम, मेरे राम

हिंदी कविता Hindi Kavita मेरे राम मेरे राम Mere Ram Mere Ram

अंत समय में रावण ने श्रीराम से कहा -



मेरे राम, मेरे राम


तू स्वामी मैं जंतु आम,


मेरे राम, मेरे राम


तू ज्ञानी मैं मूरख अनजान,


मेरे राम, मेरे राम


याचक को दे क्षमादान,


मेरे राम, मेरे राम


ले चल अब तेरे धाम,


मेरे राम, मेरे राम ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें