content='width=device-width, initial-scale=1' /> मन के भाव - हिंदी काव्य संकलन Mann ke Bhaav : Hindi Kavita: अक्तूबर 2020

अक्तूबर 21, 2020

कुछ अधूरी ख्वाहिशें

हिंदी कविता Hindi Kavita कुछ अधूरी ख्वाहिशें Kuch Adhoori Khwahishein

वो चेहरा एक सलोना सा,


जो ख़्वाबों में, विचारों में,


अक्सर ज़ाहिर हो जाता है |


जिसको चाहा है उम्रभर,


उसकी यादों के भंवर में,


मन मेरा बस खो जाता है ||



वो शौक एक अनूठा सा,


जिसमें बीता हर इक पल,


मेरे तन-मन को भाता है |


रोज़ी-रोटी के फेर में,


बरबस बीते यह ज़िंदगी,


वक्त थोड़ा मिल ना पाता है ||



वो दामन एक न्यारा सा,


जो बचपन की हर कठिनाई,


का अक्षुण्ण हल कहलाता है |


बेवक्त छूटा था वह साथ,


कह ना पाया था मैं जो बात,


कहने को दिल ललचाता है ||



वो स्वप्न एक प्यारा सा,


जो मन की गहराइयों में,


स्थाई स्थान बनाता है |


भरसक प्रयत्न करके भी,


वह सपना यथार्थ में,


परिवर्तित हो ना पाता है |



वो शोक एक भारी सा,


रह-रहकर चित्त की देह को,


पश्चाताप की टीस चुभोता है |


पृथ्वी की चाल, बहती पवन,


शब्दों के बाण, बीता कल,


पलटना किसको आता है ??



वो भाग्य एक कठोर सा,


कर्मठ मानव के कर्म का,


फल देने से कतराता है |


अपेक्षाओं के ख़ुमार में,


माया के अद्भुत खेल में,


मूर्छित मानव मुस्काता है ||

अक्तूबर 10, 2020

एक भारतीय का परिचय

हिंदी कविता Hindi Kavita एक भारतीय का परिचय Ek Bhartiya ka parichay

क्या मेरी पहचान, क्या मेरी कहानी है,


मज़हब मेरा रोटी है, नाम बेमानी है |



संघर्ष मेरा बचपन है, प्रतिस्पर्धा मेरी जवानी है,


बीमार मेरा बुढ़ापा है, जीवन परेशानी है |



पौराणिक मेरी सभ्यता है, परिचय उससे अनजानी है,


वर्तमान मेरा कोरा है, भविष्य रूहानी है |



सरहदें मेरी चौकस हैं, पड़ोसी बड़े शैतानी हैं,


गुलामी के दाग अब भी हैं, ताकत अपनी ना जानी है |



बाबू मेरे साक्षर हैं, नेता अज्ञानी हैं,


जनता मेरी भोली-भाली, सहती मनमानी है |



रंग मेरा गोरा-काला, बातें आसमानी हैं,


पहनावा मेरा विदेशी है, कृत्यों में नादानी है |



और मेरी पहचान नहीं, नम:कार मेरी निशानी है,


भारत मेरा देश है, दिल्ली राजधानी है ||

अक्तूबर 06, 2020

सुबह सूरज फिर आएगा

हिंदी कविता Hindi Kavita सुबह सूरज फिर आएगा Subah Sooraj phir aayega

जब-जब जीवन के सागर में,


ऊँचा उठता तूफाँ होगा,


जब-जब चौके की गागर में,


पानी की जगह धुँआ होगा,


जब बढ़ते क़दमों के पथ पर,


काँटों का जाल बिछा होगा,


जब तेरे तन की चादर से,


तन ढकना मुमकिन ना होगा |



तब तू गम से ना रुक जाना,


ना सकुचाना, ना घबराना,


आता तूफाँ थम जाएगा,


पग तेरे रोक ना पायेगा,


कर श्रम ऐसा तेरे आगे,


पर्वत भी शीश झुकाएगा,


हंस के जी ले कठिनाई को,


सुबह सूरज फिर आएगा ||

अक्तूबर 03, 2020

2 अक्टूबर

हिंदी कविता Hindi Kavita 2 अक्टूबर 2 October

जिसने दी संसार को,


सत-अहिंसा की सीख थी,


जिसकी दृष्टि में किसान की,


अहमियत जवान सरीख थी |



ऐसे महापुरुषों के उद्गम,


की साक्षी यह तारीख है,


निंदा की निरर्थकता का,


प्रमाण हर तारीफ़ है ||

आओ दशहरा मनाएं