content='width=device-width, initial-scale=1' /> मन के भाव - हिंदी काव्य संकलन: वो सुबह कभी तो आएगी

सितंबर 25, 2021

वो सुबह कभी तो आएगी

जब पैरों में बेड़ी नहीं,


कंधों पर खुलते पर होंगे,


जब किस्मत में पिंजरा नहीं,


खुला नीला गगन होगा,


जब बंदिश का बंधन नहीं,


अविरल धारा सा मन होगा,


जब जागते नयनों में भी,


सच होता हर स्वपन होगा ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें