content='width=device-width, initial-scale=1' /> मन के भाव - हिंदी काव्य संकलन Mann ke Bhaav : Hindi Kavita: मेरे अश्क

अगस्त 14, 2021

मेरे अश्क

मैं बरखा में निकलता हूँ, मन का सुकून पाने को,


अपने अश्कों को बारिश की, बूँदों में छिपाने को ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें