content='width=device-width, initial-scale=1' /> मन के भाव - हिंदी काव्य संकलन: कोरोना वैक्सीन

फ़रवरी 04, 2021

कोरोना वैक्सीन

क्षितिज पर छाई है लाली,


लाई सुबह का संदेसा,


घर से बाहर फिर निकलेंगे,


खाने चाट और समौसा,


तब तक लेकिन रखना होगा,


परस्पर दूरी पर ही भरोसा ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें